मेलबर्न टेस्ट : मयंक की वापसी, विजय और राहुल बाहर

मेलबर्न। भारत ने जीत की राह पर लौटने के लिए बुधवार से आस्ट्रेलिया के खिलाफ शुरू हो रहे तीसरे ‘बाक्सिंग डे’ टेस्ट के लिए मयंक अग्रवाल और हनुमा विहारी की युवा सलामी जोड़ी को जिम्मेदारी सौंपी है। पर्थ में दूसरे टेस्ट में 146 रन की हार के बाद भारत को इसकी समीक्षा करने के लिए एक हफ्ते का ब्रेक मिला और टीम ने खराब फार्म से जूझ रहे सलामी बल्लेबाजों लोकेश राहुल और मुरली विजय को अंतत: अंतिम एकादश से बाहर कर दिया।

कप्तान विराट कोहली के पास आलराउंडर हार्दिक पंड्या को खिलाने का विकल्प था लेकिन उन्होंने दोबारा फिट हो चुके रोहित शर्मा को अतिरिक्त बल्लेबाज के रूप में खिलाने का फैसला किया। भारतीय टीम प्रबंधन ने परंपरा से हटते हुए मैच से एक दिन पूर्व ही अपनी अंतिम एकादश की घोषणा कर दी जिससे टीम के संभावित संयोजन को लेकर लगाई जा रही अटकलें भी खत्म हो गई। राहुल बेहद खराब फार्म से जूझ रहे हैं और मौजूदा श्रृंखला की चार पारियों में केवल 48 रन बना पाए हैं जिसमें एडीलेड में दूसरी पारी में बनाए 44 रन भी शामिल हैं।

इस साल विदेशों में खेलते हुए उनका औसत 20–94 तक गिर गया है और इस दौरान वह नौ टेस्ट में सिर्फ एक बार अर्धशतक जड़ने में सफल रहे। विजय भी इससे कुछ अधिक बेहतर नहीं कर पाए हैं। वह मौजूदा श्रृंखला की चार पारियों में सिर्फ 49 रन बना पाए हैं। पर्थ में उन्होंने दूसरी पारी में 20 रन बनाए जो मौजूदा दौरे पर उनका सर्वश्रेष्ठ स्कोर है। कुल मिलाकर 2018 में आठ टेस्ट में उनका औसत सिर्फ 18–80 रहा है जिसमें अफगानिस्तान के खिलाफ एक शतक भी शामिल है। अफगानिस्तान के खिलाफ शतक को हटा दिया जाए तो विजय का सर्वश्रेष्ठ स्कोर इस साल 46 रन है जो उन्होंने सेंचुरियन में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ पहली पारी में बनाया। मौजूदा वर्ष में विदेशों में उनका औसत सात टेस्ट में 12–64 ही है।

ये स्कोर दर्शाते हैं कि आस्ट्रेलिया में नई गेंद के गेंदबाजों के लिए ये दोनों आसान शिकार बन गए थे। मेलबर्न में मौजूद चयन समिति के अध्यक्ष एमएसके प्रसाद ने संकेत दिए हैं कि पृथ्वी साव के चोटिल होने के कारण विहारी कामचलाऊ समाधान हैं। अग्रवाल ने हालांकि टीम में जगह घरेलू स्तर और भारत ए की ओर से शानदार प्रदर्शन की बदौलत बनाई है। विहारी आंध्र की ओर से तीसरे नंबर पर बल्लेबाजी करते हैं। वह हालांकि प्रथम श्रेणी करियर की शुरूआत में हैदराबाद के लिए पारी का आगाज कर चुके हैं। उनके पारी की शुरूआत करने की जिम्मेदारी मिलने से जाहिर है कि उन्होंने अब तक अपने दो टेस्ट में टीम प्रबंधन को प्रभावित किया है और यही कारण है कि उन्हें मिशेल स्टार्क, पैट कमिंस और जोश हेजलवुड के खिलाफ जिम्मेदारी सौंपी गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *