दो वर्ष पहले हुई हत्या का जिन्दा युवक गांजा के साथ चढ़ा पुलिस के हत्थे

 

 पत्नी ने विधायक पर लगाया था पति के हत्या का आरोप


अगर आप में है जज्बा सत्य को खोज कर सामने लाने का बनना चाहते हैं सच्चे कलम के सिपाही करना चाहते हैं राष्ट्र सेवा तो संपर्क करें :- 6262-05-6262

नवल किशोर पाण्डेय / एन.के मौर्य

गोण्डा IA2Z – सियासत के चक्रव्यूह मे फंसकर दो वर्ष पहले तरबगंज क्षेत्र की एक महिला ने भाजपा विधायक प्रेम नारायण पांडेय पर पति मंझे यादव का अपहरण करके हत्या कर शव को घाघरा नदी में फेंकवा देने का आरोप लगाया था, हैरानी की बात तो यह है कि पुलिस ने रविवार को उसे मादक पदार्थों की तस्करी के आरोप में गिरफ्तार किया है। पुलिस के अनुसार मंझे यादव पिछले दो सालों से मुंबई और दिल्ली में रहकर मादक पदार्थों की तस्करी कर रहा है जो की मंझे ने खुद कबूला है।


 
प्रकरण के सन्दर्भ मे थाना तरबगंज के प्रभारी निरीक्षक संजय दूबे का कहना है कि मंझे यादव को दुर्जनपुर घाट के पास से एक किलो गांजा के साथ गिरफ्तार किया गया। पूछताछ में उसने बताया कि उसने अपनी पत्नी व गांव के एक व्यक्ति के साथ मिलकर मौजूदा भाजपा विधायक प्रेम नारायण पांडेय को अपहरण व हत्या के मामले में फंसाने के लिए दो साल पहले यहां से फरार हो गया था। तभी से मुंबई और दिल्ली में रहकर मादक पदार्थों की तस्करी करने का घिनौना खेल खेल रहा है। 

 विधायक के फ़साने की साजिश के पीछे क्या है पूरी दास्तान

अवगत हो कि उक्त प्रकरण के पीछे विधायक प्रेम नरायन पांडे का कहना है कि सियासी साजिश के तहत उन्हें विधानसभा चुनाव के दौरान फर्जी तरीके से उनके गांव के ही रानीपुर निवासिनी मंझे यादव की पत्नी ने किसी की साजिश के तहत पति के अपहरण करके हत्या करने का गंभीर आरोप लगाया था, जिसके चलते उनके खिलाफ मुकदमा दर्ज कराने की पूरी कोशिश की गई थी। उन्होंने कहा कि विधानसभा चुनाव के दौरान उनका टिकट कटवाने के साथ साथ उनकी छवि धूमिल करने के लिए मंझे यादव का सहारा लिया गया था। फिलहाल उन्होंने कहा कि अभी साजिश करने वालों का खुलासा नहीं हो पाया है, लेकिन मामले में स्थानीय कुछ लोग शामिल थे। जल्द ही उसका भी खुलासा होने की उम्मीद है।

दो वर्ष तक कहाँ था मंझे यादव

बताते चलें कि तरबगंज का मंझे यादव झूठी कहानी को सकारत्मक दिशा देने के लिए दो वर्षों तक लापता था, इस बीच रोशनी ने थाने से लेकर न्यायालय तक प्रार्थना पत्र देकर विधायक को फ़साने की कवायद में जुटी रही, मगर अफसोस उसके मंशा पर पानी तब फिर गया जब उसके पति को मादक पदार्थों के साथ तरबगंज पुलिस ने रंगे हाथ दबोच लिया।

विधायक ने ली राहत की सांस

सियासत का मोहरा मंझे यादव की गिरफ्तारी के बाद भाजपा विधायक प्रेम नरायन पांडेय ने राहत की सांस ली है, उन्होंने कहा कि उन्हें सियासी साजिश के तहत फंसाने के लिए यह करतूत राजनीतिक विरोधियों ने की थी। बताया कि मंझे यादव और शशी पांडे में जमीन का विवाद था।

   जिसे लेकर मंझे यादव ने शशि पांडे के साथ मुझे भी मारपीट का आरोपी बनाते हुए स्थानीय थाने पर प्रार्थना पत्र दिया था। जांच में जब मामला फर्जी पाया गया तो मंझे यादव मेरे राजनीतिक विरोधियों के शह पर गायब हो गया और उसकी पत्नी रोशनी यादव ने मुझ पर हत्या कर गायब करने का आरोप लगाते हुए न्यायालय में वाद प्रस्तुत किया। लेकिन पुन: जांच में मामला फर्जी पाया पाया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
WhatsApp chat