खबर का असर ! सहारनपुर-कुशीनगर के आबकारी अधिकारी निलंबित

शराब रुपी मौत का प्याला पीकर मरने वाले परिजनो को मिलेगा 2 लाख
 जिंदगी मौत के बीच साँसे लेने वाले लोगों को 50-50 हजार रुपये के मदद की घोषणा
 
अगर आप में है जज्बा सत्य को खोज कर सामने लाने का बनना चाहते हैं सच्चे कलम के सिपाही करना चाहते हैं राष्ट्र सेवा तो संपर्क करें :- 6262-05-6262

एन.के मौर्य / नवल पाण्डेय 

(IA2Z) यूपी के सहारनपुर और कुशीनगर मे मौत रुपी जहरीली शराब पीने से बड़ी संख्या मे हुई मौतें की खबर ” इंडिया ए टू जेड न्यूज़ “ द्वारा शीर्षक खबर ” जहरीली शराब बना मौत का प्याला” को प्रमुखता से प्रेषित किया गया था, जिसे लेकर आबकारी विभाग के पसीने छूट गए और वो हरकत में आ गए, उनके द्वारा शुक्रवार को दोनों जिलों के आबकारी अधिकारी समेत दस कर्मचारियों को निलंबित कर दिया है। इनमें दो आबकारी निरीक्षक भी हैैं।



 बताते चलें कि मौत रुपी जहरीली शराब का प्याला पीने से जहाँ कुशीनगर व सहारन पुर मे 16 लोगों की दर्दनाक मौत हुई थी, वहीँ कई लोग अस्पताल के बिस्तर पर अभी भी उपचार के दौरान जीवन मौत के बीच करवट बदल रहे हैं, जिसे गंभीरता से लेते हुए मुख्यमंत्री ने सभी मृतकों के आश्रितों को दो-दो लाख रुपये व अस्पतालों में उपचार करा रहे प्रभावितों को 50-50 हजार रुपये की आर्थिक मदद देने की घोषणा की है। उन्होंने पुलिस एवं आबकारी विभाग को संयुक्त रूप से अवैध शराब के खिलाफ विशेष अभियान चलाने के निर्देश दिए हैैं। 

 कौन हुए निलंबित

प्रमुख सचिव आबकारी कल्पना अवस्थी ने बताया कि सहारनपुर के जिला आबकारी अधिकारी अजय सिंह, आबकारी निरीक्षक गिरीश चंद्र व आरक्षी नीरज कुमार और अरविंद कुमार को निलंबित किया गया है। इसी तरह कुशीनगर में जिला आबकारी अधिकारी योगेंद्र नाथ रामू सिंह यादव, आबकारी निरीक्षक हृदय नारायण पांडेय, मुख्य आरक्षी प्रह्लाद सिंह और राजेश कुमार तिवारी, व आरक्षी ब्रह्मानंद श्रीवास्तव व रवींद्र कुमार को निलंबित कर दिया गया है। 

 सीएम ने अपनाया कड़ा रुख

 मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कुशीनगर और सहारनपुर में अवैध शराब से हुई मौतों को गंभीरता से लेते हुए कड़ा रुख अपनाया है, उन्होंने जिला आबकारी अधिकारियों के खिलाफ ठोस कदम उठाने के निर्देश दिए थे। उन्होंने दोनों जिलाधिकारियों को प्रभावित व्यक्तियों की समुचित चिकित्सा व्यवस्था सुनिश्चित करने को कहा है। मुख्यमंत्री ने डीजीपी को हिदायत दी है कि संबंधित जिलों के पुलिस अधीक्षकों का दायित्व निर्धारित करें, ताकि अवैध शराब के कारोबार पर नकेल लग सके।


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
WhatsApp chat