खबर का असर ! पानी की टंकी के निर्माण को लेकर एक्शन में आये अधिशासी अभियंता

अनियमिताओं को देख रोका निर्माण, एई को सौंपा जांच
पानी टंकी की बनावट में ठेकेदारों का डाका !
चार साल से चुल्लू भर पानी को तरस रहें हैं गांव के ग्रामीण .
         
 
अगर आप में है जज्बा सत्य को खोज कर सामने लाने का बनना चाहते हैं सच्चे कलम के सिपाही करना चाहते हैं राष्ट्र सेवा तो संपर्क करें :- +91 8076748909
नवल पाण्डेय (IA2Z ब्यूरो गोण्डा)

 गोण्डा– जिले के कटरा बाजार विकास खण्ड अंतर्गत स्थित ग्राम पंचायत सर्वांगपुर डीहा गांव में पिछले चार साल से कार्यदायी संस्था द्बारा बनाए जा रहे पानी टंकी के निर्माण में घटिया सामग्री का प्रयोग किया जा रहा है, जिसे लेकर दिनांक 12 फरवरी 2019 को “इण्डिया ए टू जेड “ ने शीर्षक खबर ” पानी की टंकी के बनावट मे ठेकेदारों का डांका” प्रमुख रूप से छापा था, जिसे संज्ञान में लेकर अधिशासी अभियंता एक्शन में आ गए, और टंकी का निर्माण कार्य रुकवा कर उसकी जांच एई को सौंप दी है।


अवगत हो कि उक्त निर्माणाधीन पानी की टंकी मे धड़ल्ले से मानक विहीन सामग्री प्रयोग किया जा रहा हैं। बताते चलें कि मंगलवार को टंकी के परिधि में मोटरपम्प एवं आपरेटर रूम के बनावट में घटिया किस्म के पीले- दोमा ईंटों के खुलेआम उपयोग किए जाने से एक बार फिर मामला गर्मा गया। ग्रामीणों के शिकायत के बाद भी ठेकेदार मनमानी पर तुले हुए हैं।

यह भी पढ़ें : पानी की टंकी निर्माण पर ठेकेदारों का डाका ! 

     वहीं कार्य कच्चछप गति चलने से चार साल से पानीटंकी निर्माण कार्य अभी अधर में ही है। जिससे कई मौशम बीतने के बाद भी यहां के ग्रामीणों को चुल्लू भर पीने के लिए पानी नसीब नही हो सकी। सरकार की यह मंशा थी राष्ट्रीय ग्रामीण पेयजल मिशन के तहत गांवों में पानी टंकी बने और ग्रामीणों को शुद्ध पेयजल सुगमता से उपलब्ध हो। पर जल निगम के अधिकारियों व ठेकेदारों की मिली भगत से इस मुहिम पर ग्रहण लगा हुआ है, जिसे लेकर “इंडिया ए टू जेड “ न्यूज ने उपरोक्त शीर्षक के नाम से खबर छापा था, जिसे देख अधिशासी अभियंता की भृकुटि ठेकेदारों पर तन गयी और उन्होंने कार्य रुकवाकर उसकी जांच ए ई को सौंप दी।



क्या कहते हैं अधिशासी अभियंता

गोण्डा जल निगम के अधिशासी अभियन्ता मोकीम अहमद ने बताया कि वह किसी भी कार्यदायी संस्था को घटिया सामग्री उपयोग किए जाने की अनुमति नही देते मामला संज्ञान में आया है जांच कराकर आवश्यक कार्रवाई की जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
WhatsApp chat